गर्भसमापन पर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

a woman with confused face- गर्भसमापन

क्या भारत में गर्भसमापन कानूनी भी है?

हाँ। और हाँ, यह कई विकसित देशों के विपरीत है जहाँ गर्भसमापन एक विवादास्पद विषय है जहाँ अक्सर इसमें राजनीतिक विचारधाराओं को शामिल किया जाता है। मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी (एमटीपी) एक्ट 1971 गर्भधारण के 20 सप्ताह तक मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी (एमटीपी) की अनुमति देता है। इस एक्ट से जुड़ी कुछ अन्य जानकारी –

  • गर्भावस्था के 12 सप्ताह के भीतर एक डॉक्टर की मंजूरी से एमटीपी किया जा सकता है।
  • यदि गर्भावस्था के 12 से 20 सप्ताह के बीच हो तो एमटीपी के लिए दो डॉक्टर की सहमति आवश्यक होगी।
  • एक औरत गर्भसमापन करवा सकती हैं, अगर
    • गर्भावस्था के कारण उनके स्वास्थ्य (शारीरिक और मानसिक) को खतरा हो।
    • भ्रूण में असामान्यताएं हों जो बाद में विकृति और जोखिम का कारण बन सकती हों।
    • गर्भावस्था रेप का नतीजा है।
    • गर्भावस्था अनपेक्षित हो और गर्भनिरोधक की विफलता के कारण हो (गर्भावस्था तब हुई जब गर्भनिरोधक के एक या अधिक तरीकों का उपयोग किया गया हो)। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह खंड केवल विवाहित महिलाओं पर लागू होता है।
  • गर्भसमापन एक पंजीकृत चिकित्सा व्यवसायी (आरएमपी) द्वारा किया जाना चाहिए, जिसकी साख अधिनियम के तहत अनुमोदित है, वहाँ जहाँ अधिनियम के तहत अनुमोदन होता है। बिना अनुमोदन के कोई भी आरएमपी गर्भसमापन नहीं कर सकता।

अगर मेरी उम्र 18 वर्ष से कम हो तो भी क्या मैं गर्भसमापन करवा सकती हूं?

जी हां, जब तक कानून की शर्तें पूरी होतीं हैं, तब तक अंडरएज लड़की का अबॉर्शन हो सकता है। ऐसे में हालांकि गर्भसमापन कराने के लिए लड़की के अभिभावक की सहमति अनिवार्य है। एमटीपी अधिनियम के अंतर्गत अभिभावक को “नाबालिग या पागल व्यक्ति की देखभाल करने वाले व्यक्ति” के रूप में परिभाषित किया गया है।

क्या कोई अविवाहित महिला गर्भसमापन करा सकती हैं?

भारत में गर्भसमापन कानूनी होते हुए भी  महिला और भ्रूण के स्वास्थ्य के लिए चिंता से प्रेरित है। उदाहरण के लिए, गर्भनिरोध की विफलता, विवाहित महिलाओं के लिए विशेष रूप से उल्लिखित एक खंड है। विवाहित महिला की तरह एक अविवाहित महिला स्वास्थ्य कारणों से गर्भसमापन की मांग कर सकती हैं और अगर गर्भ यौन उत्पीड़न के परिणामस्वरूप हो तो भी वे गर्भसमापन करवा सकती हैं। हालांकि, अगर संभोग के दौरान कंडोम टूट गया हो तो इस कारण को बताकर वे गर्भसमापन के लिए उम्मीद नहीं कर सकती हैं। क्या इसका मतलब यह है कि अविवाहित महिलाओं को भारत में गर्भसमापन की सुविधा नहीं मिल सकती है? शुक्र है कि ऐसा नहीं है।

महिला के लिए स्वास्थ्य जोखिम पर खंड इस प्रकार से है – गर्भावस्था के जारी रखने पर गर्भवती महिला के शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य या उनके जीवन के लिए एक जोखिम शामिल हो। अतः यदि डॉक्टर अवांछित गर्भावस्था को इस रूप में देखता है जो गर्भवती महिला के मानसिक स्वास्थ्य के लिए गंभीर जोखिम का कारण बन सकती है, तो वे गर्भसमापन को मंजूरी दे सकते हैं।

क्या मुझे गर्भसमापन कराने के लिए अपने पति की सहमति की जरूरत है?

नहीं। अगर आप 18 या उससे ऊपर की हैं तो आपको किसी की सहमति की जरूरत नहीं है।

क्या 20 सप्ताह की सीमा के बाद गर्भसमापन की अनुमति नहीं है?

कानून के अनुसार ऐसा नहीं है। हालांकि, यदि आवश्यक हो, तो आप अदालतों का रुख कर सकते हैं। इस तरह के अनुरोध के लिए एक ठोस आधार होना चाहिए। पिछले साल, सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं को स्वास्थ्य जोखिम या भ्रूण के लिए गंभीर विकृति के कारण 20 सप्ताह की अवधि के बाद गर्भसमापन की अनुमति दी। SC ने अन्य अनुरोधों को भी अस्वीकार कर दिया है जहाँ उन्हें महिला और भ्रूण के जीवन के लिए कोई जोखिम नहीं मिला।

6. गर्भसमापन के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

दवाओंद्वारा

आमतौर पर 7 सप्ताह के भीतर – इसमें एक एमटीपी किट का उपयोग किया जाता है जिसमें खाने के लिए एक टैबलेट और योनि में प्रविष्टि के लिए चार गोलियां होती हैं।

इस तरह गर्भसमापन में दो हार्मोनल दवाओं के संयोजन का उपयोग किया जाता है – एक एंटी-प्रोजेस्टेरोन और एक प्रोस्टाग्लैंडिन, जिसका उपयोग विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है अर्थात् मुंह से, इंट्रामस्कुलर/नसों में इंजेक्शन से या योनि द्वारा।

सर्जिकल साधनों से 

आमतौर पर 12 सप्ताह के भीतर – गर्भावस्था को सक्शन क्यूरेटेज नामक विधि का उपयोग करके समाप्त कर दिया जाता है, जिसमें योनि में एक छोटी ट्यूब डाली जाती है जो सक्शन मशीन से जुड़ी होती है। इस विधि में भ्रूण को मशीन की सहायता से बाहर निकला जाता है।

आमतौर पर 12 सप्ताह और 20 सप्ताह के बीच – इस समय डाईलेशन एवं एवाकुएशन नामक विधि (डीएंडई) का उपयोग किया जाता है। इस विधि में गर्भाशय ग्रीवा को धीरे-धीरे खोलने के लिए इसमें एक गर्भाशय ग्रीवा डाईलेटर डाला जाता है। एक बार जब गर्भाशय ग्रीवा फैल जाती है, तो भ्रूण को सक्शन ट्यूब और अन्य शल्य चिकित्सा उपकरणों का उपयोग करके हटा दिया जाता है।

7. गर्भसमापन के बाद मैं क्या उम्मीद कर सकती हूं?

हर व्यक्ति दर्द को अलग तरह से अनुभव करते हैं। गर्भसमापन के बाद तत्काल रक्तस्राव होता है। आपको कुछ दिनों के लिए दर्द एवं ऐंठन महसूस हो सकती है। आपके डॉक्टर आपको दर्द से राहत पाने के लिए दवाएं लिखेंगे।

बुखार या योनि से किसी भी दुर्गन्ध के साथ होने वाले स्राव को अनदेखा न करें; ये संक्रमण के संकेत हो सकते हैं। जरा सी परेशानी होने पर भी अपने डॉक्टर से संपर्क करें। आपना स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए दो सप्ताह पश्चात् अपने डॉक्टर से मिलें। खुद को महत्व दें।

8. गर्भसमापन होने के बाद मैं कब सेक्स करना शुरू कर सकती हूं?

आपका शरीर आपकी जानकारी की तुलना में अधिक होशियार है। यह स्वयं ठीक हो जाएगा। आपको पता चल जाएगा कि आप संभोग करने के लिए शारीरिक और भावनात्मक रूप से कब तैयार हैं। कुछ डॉक्टर एक या दो सप्ताह तक सेक्स ना करने की सलाह दे सकते हैं।

9. मुझे अगली बार माहवारी कबहोगी?

गर्भसमापन के तीन से छह सप्ताह के भीतर आप अपने पीरियड्स की उम्मीद कर सकते हैं। गर्भसमापन अक्सर रक्तस्राव के साथ होता है, और कभी-कभी, यह रक्तस्राव एक सप्ताह या उससे अधिक हो सकता है। यह रक्तस्राव आपके माहवारी के समय वाला रक्तस्राव नहीं है। गर्भसमापन के बाद आपकी पहली माहवारी में आमतौर की तुलना में आपको अधिक गंभीर दर्द एवं ऐंठन होने की संभावना होती है।

लेखक 

अनुराधा खुद को अतिविचारक कहती हैं। वे मुद्दे जो उन्हें सोच में दाल देते हैं, उनपर लिखने के अलावा वे कविता भी लिखती हैं; हालाँकि कवी होने की बात वे किसी को बताती हैं हैं। वह डेहाट की सह-संस्थापक हैं, जो एक आला दर्जे का कला ब्रांड है जो भारत की संस्कृति की देहाती बेल्ट से कलाकारों के काम को आगे लाता है। वे चर्चा मंच LoudST के साथ भी जुड़ी हुई हैं और उसके पैनल का संचालन करती हैं।

0 comments Add a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *